bal vikas ki avasthaye/ bal vikas or shiksha shastra notes in Hindi

bal vikas ki avasthaye/ bal vikas or shiksha shastra notes in Hindi

bal vikas ki avasthaye/ bal vikas or shiksha shastra notes in Hindi

 

 

bal vikas ki avasthaye/ vikas pdf  Test in Hindi for All Exams ,Ctet/mptet/uptet/Rtet

 



bal vikas ki avasthayen
bal vikas ki avasthayen

 

PART -7 

 
 
(i) फ़्रांसिसी मनोवैज्ञानिक ” गाल्टन “ने   ‘ वैयक्तिक विभिन्नताओं ‘ का सर्वप्रथम प्रयोग किया ∣

 (ii) स्किनर के अनुसार ➨ ” वैयक्तिक विभिन्नताओं – (Personal  difference)-से हमारा तात्पर्य व्यक्तित्व के उन सभी पहलुओं से है ,जिनका मापन व मूल्यांकन किया जा सकता है। “


(iii)  जेम्स ड्रेवर के अनुसार – ” कोई व्यक्ति अपने समूह के शारीरिक तथा मानसिक गुणों औसत से  जितनी भिन्नता रखता है ,उससे हम ‘ वैयक्तिक
 विभिन्नताएं (Personal  difference)   ‘ कहते है।  “
  

(iv)   टॉयलर के अनुसार – ” शरीर के रूप रंग ,आकर , कार्य ,गति ,बुद्धि ,ज्ञान ,उपलब्धि ,रूचि ,अभिरुचि  आदि लक्षणों में पायी जाने वाली भिन्नता  को  ‘ वैयक्तिक भिन्नता ‘(Personal  difference) कहते है।  “
 




(v)फिफर के  अनुसार – ” सामान्य ज्ञानोंपार्जन में ‘प्राथमिक स्तर ‘ पर बालिकाओ का स्तर बालको की तुलना में अधिक ‘ उच्च ‘ होता है “

 

 (vi) पाली महोदय के अनुसार – ” बालको की शिक्षा बालिकाओ शिक्षा प्रारम्भ करने के 6 माह बाद प्रारम्भ करनी चाहिए। “
 

(vii) “कार्टर ” के अनुसार – ” बालिकाओं को अध्यापक  अपने परीक्षणों में  प्राप्तांको से अधिक अंक प्रदान करते है , जो एक प्रमापीकरण किये हुए ज्ञानोपार्जन परिक्षण पर प्राप्त करते है , जबकि बालको को अपने परीक्षणों में तुलनात्मक कम अंक प्रदान करते है “

 
 (ix) “मेरडिथ ” के अनुसार – ” सामन्य रूप से उन परिवारों के बालक स्वस्थ एवं विकसित होते है ,जो सामजिक स्तर  होते हैं ”  

 

 (x)टरमैन एवं मैरिल  के अनुसार – ” जो बालक उच्च व्यवसाय वाले माता पिता की संतान होते है , तो उनकी बुद्धि – लाब्धि (10 -15 वर्ष के बीच ) में 118 होती है , जबकि क्लिर्क पेशे वाले समूह के बालको की बुद्धि लाब्धि -107 होती है ,इसके अलावा ‘ मजदूर वर्ग ‘ के बालको की बुद्धि – लाब्धि केवल -97 होती है ”

 


(1) टॉयलर के अनुसार – ” सम्भवतः व्यक्ति योग्यता की विभिन्नताओं के बजाय व्यक्तित्व की विभिन्नताओं से अधिक प्रभावित होता है “

 
(2) क्रो एवं क्रो  के अनुसार – ” शारीरिक क्रियाओ में सफल होने  की योग्यता में एक समूह के व्यक्तियों में भी बहुत अधिक भिन्नता पायी जाती है “
 

(3)”मन ” के अनुसार – ” हमारा सभी का जीवन एक ही प्रकार से आरंम्भ होता है , फिर इसका क्या कारण है की जैसे जैसे हम बड़े होते जाते है , हममे अंतर होता जाता है , इसका कारण यह है ,की हमारा सभी का वंसानुक्रम भिन्न होता है “
 
 
प्रशन 1 –    कक्षा में शिक्षण को सुचारु रुप से चलाने के लिए एक शिक्षक को क्या – करना चाहिए , अथवा ऐसा क्या करना चाहिए जिससे बालको का ध्यान आकर्षित हो ?
 

उत्तर –   शिक्षण को सुचारु रूप से चलाने के लिए एक शिक्षक को अधिक से अधिक प्रश्न पूछने चाहिए , कियोकि इससे ” छात्रों को  स्वयं को अभिव्यक्त  (Expressed) करने का अवसर मिलता है। “
 
 

प्रश्न 2 – किसी भी बालक में कौन सा समायोजन अथवा किस तरह का समायोजन सबसे अधिक श्रेष्ठ होता है ?




उत्तर – किसी  में किसी छात्रा या छात्र का – ” वैयक्तिक समायोजन (Personal-Adjustment) एवं सामजिक समायोजन (Social-Adjustment)” सबसे श्रेष्ठ है।  इसका प्रमुख कारण ” उनकी भाषा” होना है।

 

 प्रश्न -3 – किसी कक्षा में बच्चो के भावो और विचारो का मूल्यांकन करने के लिए सर्वोत्तम साधन क्या है ?

 


उत्तर -किसी भी कक्षा में बच्चो के- ” भावो और विचारो ” – का मूल्यांकन करने के लिए सर्वोत्तम साधन ” बच्चो के  विकास की जानकारी ” द्वारा प्राप्त किया जाता है। अर्थात बालक के विकास -क्रम की गति और वर्तमान स्थति को देखकर ही शिक्षक – बालक के भावो और विचारो का मूल्यांकन कर सकता है।

 

प्रश्न 4 – एक शिक्षक कक्षा में शिक्षण के दौरान कड़ी मेहनत   करता  है ,फिर भी उस कक्षा में शैक्षिक भिन्नताएं होती है , इसका कारण क्या है ?


एक शिक्षक कक्षा में शिक्षण के दौरान कड़ी मेहनत   करता  है ,फिर भी उस कक्षा में शैक्षिक भिन्नताएं होती है , इसका प्रमुख कारण ” भिन्न – भिन्न छात्रों में वैयक्तिक गुणों का भिन्न -भिन्न होना है। “
 

 Q.  5  –  किसी बच्चे में  “पूर्व माध्यमिक  स्तर ” पर सीखने की  प्रक्रिया को सरल बनाने का सर्वोत्तम साधन  क्या है ?



  उत्तर – अनुबंध 
 

 Q . 6 – किसी बालक  के भाषा विकास को प्रभावित या कमजोर करने वाले कारक कौन -कौन से है ?
 उत्तर –  – 1 –  सामजिक -आर्थिक स्थति 
 

 2 – बुद्धि (कम होना )
 
 
 3 – द्वी – भाषावाद होना 
 

 Q . 7-   भाषा दोष क्या है ?

 

उत्तर- – बालको की भाषा में नम्न प्रकार का दोष पाया जाता है ,
 

जैसे की – ध्वनि का अशुध उच्चारण , अत्यंत तीव्र ध्वनि होना ,पुरवृत्ति होना ,आदि सभी प्रकार के दोष भाषा दोष के अंतरगर्त आते है ।
 
 

Q . 8 –  वैयक्तिक विभिन्नताओं का प्रमुख कारण क्या है ?
 

उत्तर  – वैयक्तिक विभिन्नताओं  प्रमुख कारण निम्नलिखित है –   वातावरण , आयु , वंशानुक्रम आदि  ।
 

Q . 9 – सामाजिक स्तर से ऊँचे परिवारों के बच्चो की अपेक्षा निम्न सामाजिक स्तर के बच्चो में किस प्रकार की वैयक्तिक भिन्नताएं पायी जाती है ?
 

उत्तर – निम्न प्रकार के भिन्नताएं पायी जाती है , जैसे की — शारीरिक विकास , मानसिक विकास , व्यवहार में अन्तर  आदि І
 



प्रश्न – 10 -यदि छटवीं  कक्षा का छात्र 11 वीं कक्षा के विषयो को समझ लेता है ,तो उसकी इस व्यक्तिक भिन्नता का क्या कारण है ?
 

उत्तर – उस छात्र की इस वैयक्तिक वभिन्नता का कारण   छात्र की ” विशिष्ट योग्यता ” है ।

 

🚡 ” मेकनेमर और टर्मन ” के अनुसार  ” स्त्रियों और पुरषों में अंतर ” निम्नप्रकार है ।

 

  स्त्री – इनमे स्मृति कौशल पुरषों  अपेक्षाकृत अधिक होता है ।
 

 पुरुष –  जबकि पुरषों में ” गत्यात्मक योग्यता ” अधिक होती है ।
 

 स्त्रियाँ – इनका हस्तलेख (HANDWRITING) पुरषो की अपेक्षाकृत अच्छा  होता है ।
 

 पुरष- इन्हे गणित और तर्क विषय में अधिक योग्यता होती है ।
 

 

 स्त्री – इनमे स्वाद , स्पर्श ,घृणा आदि को समझने को कौशल अधिक होता है ।

 

जबकि पुरषों में – भार और आधार  समझने का कौशल अधिक होता है І
 

 स्त्रियों -में – भाषा सम्बन्धी योग्यता , सुझावों के प्रति संवेदनशील ,दर्पण , चित्रकला में अधिक कुशलता ,आदि 

जबकि पुरषो में भौतिक विज्ञान ,रसायन विज्ञान ,विषयो में अधिक योग्यता पायी जाती है ।
 

 



“मोनटेसरी प्रणाली ” का विकास मंद बुद्धि और सुविधा हीन बालको के लिए किया गया था ।

 

वैयक्तिक विभिन्नता हेतु ” भाषा का विकास ” एक आयशयक कौशल है , कियोकि यह सामाजिक , शारीरिक  और मानसिक आदि आवशयकताओ  पूर्ति करता है І
 

 
error: Content is protected !!
Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro

Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.

Powered By
CHP Adblock Detector Plugin | Codehelppro