bal vikas pdf / bal vikas or shiksha shastra notes in Hindi

bal vikas pdf / bal vikas or shiksha shastra notes in Hindi

bal vikas pdf / bal vikas or shiksha shastra notes in Hindi

 

bal vikas pdf  Test in Hindi for All Exams ,Ctet/mptet/uptet/Rtet

bal vikas pdf
bal vikas pdf / bal vikas or shiksha shastra notes in Hindi
 

 

 



नमस्कार दोस्तों , इस आर्टिकल में हमने  ” bal vikas pdf / bal vikas or shiksha shastra notes in Hindi ” के प्रश्नों का एक – एक करके संकलन किया है। साथ ही इस पीडीऍफ़ में हमने ” बाल विकास और शिक्षा शास्त्र ” के सभी topics को विषयवार cover किया है। इस नोट्स की विशेषता यह है , कि – इसमें आपको पढ़ने , समझने और याद करने में आसानी होगी। कियोकि इन नोट्स को आपके बालविकास एवं  शिक्षा – शास्त्र को समझने और याद करने की समस्याओं को ध्यान में रखकर बनाया गया है।
Part-6 
1- भाषा का प्रारंभिक रूप है ➨  रोना , बलबलाना ,हाव -भाव , संकेत
भाषा का वास्तविक रूप ➨ आकलन ,बोध शक्ति ,शब्द भंडार , वाकय निर्माण , शुद्ध उच्चारण आदि ∣

(i)  पृथ्वी पर रहने वाले सभी जीव-जन्तुओ की अपनी अलग – अलग भाषा है І

(ii) अंग्रेजी , हिन्दी, भी सभी भाषा है І

 

(iii) भाषा अर्थहीन भी हो सकती है , जैसे की -संकेत भाव की भाषा І



 

(iv) एक गूंगे व्यक्ति की भी भाषा होती है,जिसे वह संकेत भाव से अपने शरीर के अंगो द्वारा प्रकट करता है І

 

(v) “बच्चा ” जब जनम लेता है ,और जब वह रोता है , तो वह उसकी प्रथम भाषा कही गयी है ।


(2) परिपक्वता  सिद्धांत
 ➨ इस सिद्धांत अनुसार  बोलने में सभी स्वर यन्त्र जैसे – जीभ ,गला, होंठ ,तालु ,दांत ,आदि जिम्मेदार कारक  होते है
। अर्थात इनमे से  यदि कोई भी अंग कमजोर होगा ,तो उस अंग की कमी से वाणी प्रभावित  होती है । तथा सभी अंगो के “परिपक्व ” होने पर ही भाषा शुद्ध होती है ।
(3) अनुबंध का सिद्धांत➨ अनुबंध  सिद्धांत से आशय  है की किसी भाषा  के साथ “सम्बन्ध ” स्थापित करना ।अर्थात जब हम किसी भाषा के साथ सम्बन्ध स्थापित कर लेते है , तो यह अनुबंध का सिद्धांत कहलाता है । जैसे की – ” बालको ” को किसी भी वस्तु के बारे में बताते हुए उस वस्तु को प्रत्यक्ष रूप से दिखाना ।
उदहारण के लिए –
(I) बालको को कलम बोलने के साथ ” कलम ” को दिखाया जाना
इस प्रकार इस तरह की क्रिया से उस वस्तु और बालक में एक सम्बन्ध स्थापित हो जाता है ।



जिससे हम ” अनुबंध ”  सिद्धांत कहते है ।यह सिद्धांत प्राथमिक कक्षाओं के लिए  अत्यधिक उपयोगी होता है ।
 (4) वाणी ➤ वाणी और भाषा दोनों एक दूसरे से बिलकुल अलग -अलग है ।

 

 

(I) वाणी भाषा का ही एक रूप है ।

 (ii) वाणी ” मनोक्रियात्मक कौशल ” है । अर्थात मानसिक रूप से किया जाने वाला कौशल І
(iii) बिना अर्थ और नियंत्रण के बोली गयी वाणी “तोता वाणी ” कहलाती है ।
(iv) वाणी केवल ” मनुष्यों ” द्वारा ही बोली जाती है ।
(v) वाणी वह होती है ,जिससे कोई व्यक्ति अथवा समाज समझ सके І
(vi) वाणी अर्थपूर्ण (जिसका अर्थ हो ) ही होती है , अर्थात बिना अर्थ के कोई भी वाणी नहीं हो सकती ।
कोई भी व्यक्ति किसी भी समाज में जब वह अपने विचारो का आदान – प्रदान करता है , तो वाणी के माध्यम से ही करता है І
(5) संवेगात्मक तनाव ➨  जिन बच्चो  सवेगों का कठोरता से दमन किया जाता है , जैसे की – डाटना ,पीटना ,झिड़कना ,आदि – ऐसे बच्चो में भाषा का विकास क्रम देर से प्रारम्भ होता है ∣
(6)  प्रशिक्षण विधि ➨ बच्चो को डाँटकर भाषा सीखने की अपेक्षाकृत स्वतत्र रूप से भाषा सीखने पर बल देना चाहिए ।
(7) व्यक्तित्व ➨ फुर्तीले ,उत्साही ,चुस्त , एवं बहिर्मुखी बालको का भाषा विकास ,शांत स्वभाव वाले बालको की अपक्षाकृत अधिक गति से होता है ।
(8) भाषा दोष के बालको पर प्रभाव ➨ जिन भी बालको में भाषा दोष उत्पन्न हो जाते है ,वे समाज से कतराने लगते है , उनके अंदर हीनता ,अकेले रहना , कम बोलना ,आदि प्रवत्ति पायी जाती है Ι इन बालको को ” पिछड़ा बालक ” कहते है Ι



(9) चिंतन ➨ चिंतन एक ज्ञान प्राप्त करने की “मानसिक प्रक्रिया ” है । इसके अतरगर्त – स्मृति ,कल्पना ,अनुमान आदि को शामिल किया जाता है І
(10) वंशानुक्रम एवं वातावरण –  वंशानुक्रम का मूल ” कोष ” होता है।  इस कोषों के द्वारा ही मनुष्य के शरीर का बनता है।  कियोकि इन कोषों के केंद्र में  “गुणसूत्र “पाए जाते है। इन गुणसूत्रों में  मनुष्य  के “अनुवांशिकता ”  के  जीन्स होते है। जो कि  एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में जाते है। और यह क्रम चलता रहता है।  ये संपूर्ण प्रक्रिया  ” वंशानुक्रम ” कहलाती है।
(11  ) शारीरिक दृस्टि से वंशानुक्रम –  किसी भी बालक में  वंशानुक्रम के तहत  ” शारीरिक  विकास ” को देखने से  विभिन्न तरह तथ्यों का ज्ञान होता  है।
जैसे कि –
(i )  बालक की ऊंचाई (hight ) क्या होगी 
(ii ) बालक का रंग – रूप कैसा होगा ? जैसा कि अक्सर हम देखते है कि – जिन माता – पिता का रंग साफ़ (गोरा ) होता है , उन माता – पिता की संतान का भी रंग गोरा होता है।  वही इसके विपरीत – जिन माता – पिता का रंग काला होता है , उन माता – पिता की संतानो का रंग भी अक्सर “काला ” देखने  को मिलता है।
(iii ) बालक में शारीरिक वृद्धि किस प्रकार की होगी।
(iv ) बालक का विकास किस प्रकार और कैसे निर्धारित होगा।
अतः  इस प्रकार हम कह सकते है , कि  किसी भी बालक का वंशानुक्रम “शारीरिक दृस्टि ” उसके विकास एवं वृद्धि को प्रभावित करता है। वही दूसरी और इन सम्बन्ध में कुछ अपवाद भी देखने को मिलते है।
(12 ) बौद्धिक दृस्टि से वंशानुक्रम –  किसी भी बालक में  वंशानुक्रम के तहत  ” बौद्धिक दृस्टि ” को देखने से  विभिन्न तरह तथ्यों का ज्ञान होता  है।
(i )  गोडार्ड के अनुसार – ”  मंद बुद्धि के माता – पिता के  संतानो (बच्चो ) की बुद्धि  मंद होती है और तीव्र बुद्धि के माता – पिता के बच्चो की बुद्धि भी ” तीव्र ” ही होती है। “



→ हालांकि – इस पर बहुत से मनोवैज्ञानिकों के “विरोधावास ” है। साथ की ऐसे तथ्य निकलर सामने आये है , जिसमे इस नियम को गलत पाया गया है।
(ii ) बुद्धि को हम  अधिगम अर्थात “सीखने की योग्यता” कहते हैं। जिसमे बालक के  विभिन्न क्षेत्रों को देखा जाता है।
जैसे कि
(i )  बालक द्वारा निर्णय लेने की क्षमता कैसी है ?  क्या वो त्वरित निर्णय लेने में सक्षम है या नहीं।
(ii ) बालक के सीखने की गति कैसी है ? अर्थात बालक के सीखने की गति – “तीव्र ” है – अथवा “मंद ” है। कियोकि यदि बालक के सीखने की गति “तीव्र ” होगी तो उस बालक का ” मानसिक
– विकास ” भी तीव्र गति से होगा। ठीक इसके विपरीत यदि बालक के सीखने की गति यदि  – ” मंद ” है , तो उस बालक का मानसिक विकास भी “धीमी ” गति से होगा।
(iii )  ” मनोविज्ञानिकों ” ने – वंशानुक्रम से संबंधित  विभिन्न तरह की परिभाएँ दी है।  जिनमे से कुछ इस प्रकार है।
(i )  बी-एन -झा – के अनुसार – ” वंशानुक्रम व्यक्ति की जन्मजात विशेषताओ का पूर्ण योग है। “
(ii ) वुडवर्थ के अनुसार – ” वंशानुक्रम में उन सभी बातो को शामिल किया जाता है – जो कि   बालक – में  उसके जन्म के समय नहीं अपितु  गर्भाधान के समय – 9 माह पूर्व मौजूद थी। “
(iii ) एच् – ए – पेटरसन -के अनुसार – ” बालक  माता – पिता के माध्यम से अपने पूर्वजो की जिन विशेषताओं को प्राप्त करता है उसे – वंशानुक्रम – कहते है। “



(iv ) जेम्स ड्रेवर के अनुसार – ” शारीरिक तथा मानसिक विशेषताओं का माता – पिता से संतानो में हस्तांतरण होना ही वंशानुक्रम हैं। “
(v ) रूथ – बेनेडिक्ट के अनुसार – ” वंशानुक्रम माता – पिता से बच्चो को प्राप्त होने वाला एक गुण है। “
error: Content is protected !!
Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro

Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.

Powered By
CHP Adblock Detector Plugin | Codehelppro