bal vikas question answer or shidhant/ shiksha shastra notes in Hindi

bal vikas question answer or shidhant/ shiksha shastra notes in Hindi

 

bal vikas question answer or shidhant
bal vikas online test in hindi for tet exams
part – 2

 1 – यह कथन किस मनोवैज्ञानिक का है ?

 



 कथन – ” बालक का 80 % व्यक्तित्व वंशानुक्रम से तथा २०% व्यक्तित्व वातावरण से निर्धारित होता है “

(A) जीन पियाजे

 (B) वुडवर्थ

(C)  हरलॉक


(D) लॉरेन्स कोहलबर्ग


(E) इनमे से कोई नहीं 


उत्तर देखें   –      
                

 2 –  यह कथन किस मनोवैज्ञानिक का है ?

 

 कथन – ” वंशानुक्रम बालक की जन्मजात योग्यताओं का कुल योग है “

 

 (A) डॉ.बी.एन.झा

 

 (B) वुडवर्थ

(C)  हरलॉक


(D) लॉरेन्स कोहलबर्ग


(E) इनमे से कोई नहीं 

 

उत्तर देखें   –              

  

 3 –  यह कथन किस मनोवैज्ञानिक का है ?



 कथन – ” वंशानुक्रम उन समस्त बातों को अपने अंदर संजोये रहता है , जिन्हे बालक गर्भाधान के समय प्राप्त करता है “
 (A) जीन पियाजे 
(B) वुडवर्थ

(C)  हरलॉक


(D) लॉरेन्स कोहलबर्ग


 (E) इनमे से कोई नहीं 
उत्तर देखें   –                                    

 4 –  यह कथन किस मनोवैज्ञानिक का है ?

 कथन – ” एक व्यक्ति के वंशानुक्रम में वे समस्त शारीरिक बनावट , शारीरिक विशेषताए , क्रियाये और क्षमताये सम्मलित रहती है Ι जिन्हे वह अपने माता – पिता , अन्य पूर्वजो अथवा प्रजाति से प्राप्त करता है “

 

 

 (A) डगलस एवं हॉलैंड

 

 (B) वुडवर्थ

(C)  हरलॉक


(D) लॉरेन्स कोहलबर्ग


(E) इनमे से कोई नहीं 

 

 



उत्तर देखें   –                           

 5 –  यह कथन किस मनोवैज्ञानिक का है ?

 कथन – ” व्यक्ति के अनुवांशिक गठन में निहित आंतरिक शक्तियाँ उनका वंशानुक्रम बनती है “

(A) जीन पियाजे 
(B) वुडवर्थ

(C)  हरलॉक


(D) मेक कोनल


(E) इनमे से कोई नहीं 
उत्तर देखें                       

 

 

 6 –  यह कथन किस मनोवैज्ञानिक का है ?

 कथन –  ” जो जीन माता – पिता के गुणसूत्रों में रहते है ,वे वंशानुक्रम कारको के वाहक  होते है І  “

(A) जीन पियाजे 
(B) वुडवर्थ

(C)  कुलन तथा थामसन


(D) लॉरेन्स कोहलबर्ग


(E) इनमे से कोई नहीं 



उत्तर देखें-                                    
 7 –  यह कथन किस मनोवैज्ञानिक का है ?
 कथन –  ” व्यक्ति अपने माता – पिता के माध्यम से पूर्वजो की जो विशेषताए प्राप्त करता है , वह वंशानुक्रम कहलाता है । ”

 (A) एच.ए . पेटरसन 
(B) वुडवर्थ

(C)  हरलॉक


(D) लॉरेन्स कोहलबर्ग


(E) इनमे से कोई नहीं
 उत्तर देखें-                            

 

 

 8 –  यह कथन किस मनोवैज्ञानिक का है ?

 कथन – ” बालको में नैतिकता या चरित्र के विकास की कुछ निश्चित एवं सार्वभौमिक स्तर अथवा अवस्थाएं पायी जाती है І जैसे की – परम्परागत नैतिक स्तर , पूर्व नैतिक स्तर , आत्म अंगीकृत नैतिक मूल्य स्तर І “

(A) जीन पियाजे 
(B) वुडवर्थ



(C)  हरलॉक


(D) लॉरेन्स कोहलबर्ग


(E) इनमे से कोई नहीं 
उत्तर देखें-                        

 

 9 –  यह कथन किस मनोवैज्ञानिक का है ?

 कथन -” बच्चों में बुद्धि का विकास उनके जन्म के साथ जुड़ा हुआ है І प्रत्येक बालक अपने जन्म के समय कुछ जन्मजात प्रवत्तियों एवं सहज क्रियाओं  सम्बन्धी योग्यताओं – जैसे की – देखना , वस्तुओं को पकड़ना , चूसना आदि І ”
 (A) जीन पियाजे 
(B) वुडवर्थ

(C)  हरलॉक


(D) लॉरेन्स कोहलबर्ग


(E) इनमे से कोई नहीं 
उत्तर देखें                          

 

 

 10 –  यह कथन किस मनोवैज्ञानिक का है ?



 कथन – “कोई भी बालक सामाजिक पैदा नहीं होता , वह दूसरों  हुए भी अकेला ही होता है I इनके अनुसार बालक समाज में दूसरों के संपर्क में आकर समायोजन  प्रक्रिया सीखता है “

 

 

 (A) जीन पियाजे

 

 (B) वुडवर्थ

(C)  हरलॉक


(D) लॉरेन्स कोहलबर्ग


(E) इनमे से कोई नहीं 

                            उत्तर देखें –                         

 

1-  हरलॉक के अनुसार – “कोई भी बालक सामाजिक पैदा नहीं होता , वह दूसरों  हुए भी अकेला ही होता है I इनके अनुसार बालक समाज में दूसरों के संपर्क में आकर समायोजन  प्रक्रिया सीखता है “І

2 – जीन पियाजे के अनुसार – ” बच्चों में बुद्धि का विकास उनके जन्म के साथ जुड़ा हुआ है І प्रत्येक बालक अपने जन्म के समय कुछ जन्मजात प्रवत्तियों एवं सहज क्रियाओं  सम्बन्धी योग्यताओं – जैसे की – देखना , वस्तुओं को पकड़ना , चूसना आदि І

3 – लॉरेन्स कोहलबर्ग के अनुसार – ” बालको में नैतिकता या चरित्र के विकास की कुछ निश्चित एवं सार्वभौमिक स्तर अथवा अवस्थाएं पायी जाती है І जैसे की – परम्परागत नैतिक स्तर , पूर्व नैतिक स्तर , आत्म अंगीकृत नैतिक मूल्य स्तर І

4 – एच.ए . पेटरसन के अनुसार –  ” व्यक्ति अपने माता – पिता के माध्यम से पूर्वजो की जो विशेषताए प्राप्त करता है , वह वंशक्रम कहलाता है ।


5 – कुलन तथा थामसन के अनुसार –
” जो जीन माता – पिता के गुणसूत्रों में रहते है ,वे वंशानुक्रम कारको के वाहक  होते है І  “

6 – मेक कोनल के अनुसार – ” व्यक्ति के अनुवांशिक गठन में निहित आंतरिक शक्तियाँ उनका वंशानुक्रम बनती है ” 



7 –  डगलस एवं हॉलैंड  अनुसार – ” एक व्यक्ति के वंशानुक्रम में वे समस्त शारीरिक बनावट , शारीरिक विशेषताए , क्रियाये और क्षमताये सम्मलित रहती है Ι जिन्हे वह अपने माता – पिता , अन्य पूर्वजो अथवा प्रजाति से प्राप्त करता है “

8 – वुडवर्थ के अनुसार – ” वंशानुक्रम उन समस्त बातों को अपने अंदर संजोये रहता है , जिन्हे बालक गर्भाधान के समय प्राप्त करता है “

9 – डॉ . बी .एन. झा के अनुसार – ” वंशानुक्रम बालक की जन्मजात योग्यताओं का कुल योग है “

10 – वुडवर्थ के अनुसार – ” बालक का 80 % व्यक्तित्व वंशानुक्रम से तथा २०% व्यक्तित्व वातावरण से निर्धारित होता है “

error: Content is protected !!